Stock Rom aur Custom Rom kya hota hai, full detail in hindi

167
0
SHARE
Stock Rom aur Custom Rom kya hota hai, full detail in hindi
Stock Rom aur Custom Rom kya hota hai

आज कल हर एक आदमी अपने हर एक काम को करने के लिए किसी न किसी डिवाइस का उपयोग करता ही है। उनमे से मोबाइल काफी ज्यादा उपयोग किया जाता है, शायद कोई ऐसा होगा जिसके पास एक स्मार्टफोन न हो। आज की पोस्ट में हम स्मार्टफोन से जुडी कुछ चीज जैसे स्टॉक रोम(Stock Rom) और कस्टम रोम(Custom Rom) के बारे में चर्चा करेंगे। अगर आप भी एक स्मार्टफोन का उपयोग करते है तो यह आर्टिकल आपके लिए काफी हेल्पफुल हो सकती है। चलिए शुरू करते है।

मान लीजिये की आप एक एंड्रॉइड स्मार्टफोन के उपयोगकर्ता हैं, तो आपने कभी न कभी अपने फ़ोन को नए एंड्रॉइड वर्जन में अपडेट किया होगा या करना चाहा होगा। उस समय आपके सामने दो ऑप्शन आया होगा पहला स्टॉक रोम(Stock Rom) और दूसरा कस्टम रोम(Custom Rom) । उस समय आपके मन में यह ख्याल आया होगा की ये स्टॉक रोम(Stock Rom) और कस्टम रोम(Custom Rom) क्या है। दोनों की विशेषताएं क्या है ? आपको कौन सा वर्जन अपने स्मार्टफ़ोन  में डालना चाहिए। 

रोम(Read Only Memory) के बारे में तो आपको पता ही होगा। खैर हमारा टॉपिक स्टॉक रोम (Stock Rom) और कस्टम रोम ( Custom Rom ) है, और हम उसी के बारे बात करेंगे। अगर आपके पास एक एंड्रॉइड फ़ोन है, तो आपको उसके एंड्रॉइड वर्जन को अपडेट जरूर करना चाहिए। जैसे की अगर आपके फ़ोन में एंड्राइड वर्जन लॉलीपॉप है तो उसको एंड्राइड वर्जन मार्शमलोआगे नेगेट और फिर एंड्रॉइड ओरेओ में अपडेट करना चाहिए। जल्द ही आपके लिए एंड्राइड पाई का अपडेट उपलब्ध हो जायेगा। लेकिन आपने जिस तरह से अपने फ़ोन को अपडेट किया क्या वह स्टॉक रोम ( Stock Rom ) था या कस्टम रोम (Custom Rom) यह शायद आपको पता न हो। ये दोनों क्या होते है, इनके बिच क्या अंतर जान लेते है :-

स्टॉक रोम क्या होता है ? 

हालाँकि ये स्टॉक रोम ( Stock Rom ) एक ओरिजिनल रोम होता है, जो आपको स्मार्टफोन में पहले से दिया गया होता है। उदाहरण के लिए एंड्राइड का लॉलीपॉप, मार्शमलो, नौगाट और ओरियो जो आपके फ़ोन में पहले से दिया गया होता है। जिसे हम स्टॉक रोम ( Stock Rom ) कहते है , यह रोम Google कंपनी द्वारा विकशित किया जाता है।

इसमें आपको  बहुत काम या न के बराबर बग्स देखने को मिलता है। अगर कभी आपको इसमें कोई बग्स दिखता है तो आप इसे डायरेक्टली गूगल को रिपोर्ट कर सकते है। इस तरह आप इन बग्स को गूगल की मदद से आसानी से फिक्स कर सकते है। ऐसा करने के लिए आपको किसी नए रोम को डाउनलोड करने की जरुरत नहीं पड़ेगी। आपको हमेश गूगल का सिक्योरिटी अपडेट भी मिलती रहती है। कुल मिलकार अगर आप केवल गूगल का रोम उपयोग करते है तो वह स्टॉक रोम ( Stock Rom ) होता है। 

कस्टम रोम क्या होता है ? 

कस्टम रोम ( Custom Rom ) को किसी कंपनी या किसी डेवलपर के द्वारा विकशित किया जाता है, जो ऑपरेटिंग सिस्टम पर आधारित होता है। आज के समय में लगभग सारे स्मार्टफोन में कस्टम रोम ( Custom Rom ) का प्रयोग किया जाता है। इस अगर आप अपने फ़ोन में इस रोम को डालना कहते है तो आपको उस फ़ोन को Root करना होगा। यानी इस रोम के डालने के बाद आपको अपने फ़ोन में जो भी फीचर मिलता है वह पूरी तरह से बदला होता है, जो गूगल के रोम से अलग होता है।

Affiliate marketing kya hai aur isase kis tarah paisa kamaya ja sakta hai हिंदी में

कहने का मतलब यह की डेवलपर इस रोम में कई ऐसे फीचर जोड़ते है और हटाते है जो गूगल रोम से हटके होता है। यानि इस रोम को पूरी तरह उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाया जाता है। इस तरह डेवलपर इन रोम को आपके लिए इंटरनेट पर अपलोड करता है, जिसे आप डाउनलोड करके अपने फ़ोन में डाल सकते है। कस्टम रोम ( Custom Rom ) को डेवलपर द्वारा बनाया जाता है, इसलिए जाहिर सी बात है उनमे कुछ बग्स या गलती हो सकती है। जिसे आप ठीक नहीं कर सकते और ना ही फिक्स कर सकते, अगर आपको इसे ठीक या फिक्स करना है तो आपको एक नया कस्टम रोम ( Custom Rom ) डालना होगा। लेकिन यह दिक्कत आपको स्टॉक रोम ( Stock Rom ) के साथ नहीं होता है, क्योकि यह गूगल के द्वारा बनाया गे ओरिजिनल रोम होता है।

स्टॉक रोम और कस्टम रोम : दोनों में अंतर क्या है ?

  • स्टॉक रोम ( Stock Rom ) एक ओरिजिनल रोम होता है, जिसे Google कंपनी बनती है। लेकिन कस्टम ( Custom Rom ) रोम को कोई भी डेवलपर बना सकता है, जो कोडन के बारे में अच्छी तरह से जनता हो। 
  • अगर आप अपने स्मार्टफोन में स्टॉक रोम ( Stock Rom ) का प्रयोग किया है, तो समझ ले की आपका फ़ोन पूरी तरह से सेफ है। वही अगर आप कस्टम रोम ( Custom Rom ) का प्रयोग किया है तो इसकी वारंटी के बारे में कहना थोड़ा मुश्किल है। 
  • अगर आप अपने स्मार्टफोन में स्टॉक रोम ( Stock Rom ) को डाला है, और उसमे कोई बग या एरर आता है तो इसे Google एक नया अपडेट देकर इसे फिक्स कर देता है। वही अगर आप कस्टम रोम(Custom Rom) का उपयोग करते है, और उसमे कोई बग आता है तो आप इसे फिक्स नहीं कर पाएंगे। अगर फिक्स करना तो आपको ने रोम डालना होगा। 
  • जहां स्टॉक रोम ( Stock Rom ) Google का एक प्रोडक्ट है जो पूरी तरह सुरक्षित है, जिस पर आप पूरी तरह भरोषा कर सकते है। वही कस्टम रोम ( Custom Rom ) को कोई थर्ड पार्टी द्वारा विकशित किया जाता है, जिसपर भरोषा करना थोड़ा नुकशानदेह हो सकता है। 
  • अगर आप चाह कर भी स्टॉक रोम ( Stock Rom ) वाले स्मार्टफोन में इनबिल्ट एप्प को डिलीट नहीं कर सकते वही कस्टम रोम ( Custom Rom ) वाले फ़ोन में किसी भी एप्प को आसानी से अनइंस्टाल कर सकते है। 

इन बातों का ध्यान दे –

अंत में यह निष्कर्ष निकलता है, की ( Stock Rom ) स्मार्टफोन के मामले में पूरी तरह सुरक्षित है।  क्योंकि इस रोम में आपको गूगल की तरफ से लगातार अपडेट मिलते रहेंगे। लेकिन आज कल लगभग सारे फ़ोन कस्टम रोम ( Custom Rom ) के ही आ रहे है। अगर आप किसी कारण बश एक गलत रोम इंस्टॉल करते हैं, तो यह आपके फ़ोन के ख़राब होने की वजह बन सकता है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.